Rahul’s Drizzle Dilemma: A Tale of Friendship and Truth

Fluent Fiction – Hindi
www.FluentFiction.org/Hindi
Story Transcript:
Hi: चाय की दुकान के बाहर हल्की बूंदा-बांदी हो रही थी।
En: Outside the tea shop, a light drizzle was falling.

Hi: राहुल, प्रिय और रमेश हमेशा की तरह वहां चाय पीने आए थे।
En: As usual, Rahul, Priya, and Ramesh had come there to drink tea.

Hi: नामदेव की चाय दुकान बड़ी ही मशहूर थी।
En: Namdev’s tea shop was very famous.

Hi: राहुल अक्सर अपने दोस्त रमेश को चाय के पैसे देने से चकमा देने की कोशिश करता था।
En: Rahul often tried to evade paying for his friend Ramesh’s tea.

Hi: जब भी चाय की बारी आती, राहुल किसी न किसी बहाने से इधर-उधर हो जाता।
En: Whenever it was time to pay for tea, Rahul would find some excuse to leave.

Hi: कभी कहता, “अरे, फोन आ रहा है,” तो कभी कहता, “मुझे बाथरूम जाना है।”
En: Sometimes he’d say, “Oh, I have a phone call,” and other times, “I need to go to the bathroom.”

Hi: आज भी तीनों दोस्त वहीँ बैठे थे।
En: Today, too, the three friends were sitting there.

Hi: राहुल के मन में फिर से वही खुराफाती सोच आ रही थी।
En: Rahul’s mischievous thought was coming back to him.

Hi: लेकिन आज कुछ अलग होने वाला था।
En: But today, something different was going to happen.

Hi: राहुल ने प्रिय से कहा, “प्रिय, बाहर जरा देखो, बारिश तेज़ हो रही है क्या?”
En: Rahul said to Priya, “Priya, check outside, is the rain getting heavier?”

Hi: प्रिय ने चाय का कप रखते हुए बाहर की तरफ देखा। इतने में राहुल ने सोचा कि वह जल्दी से दुकान के पीछे जाकर छुप जाएगा।
En: As Priya put down her tea cup and looked outside, Rahul thought he could quickly slip out and hide behind the shop.

Hi: वह चुपचाप उठा और पीछे के दरवाजे की ओर बढ़ने लगा।
En: He quietly got up and headed towards the back door.

Hi: लेकिन जैसे ही राहुल ने दरवाजा खोला, वह एक बड़े पानी के गड्ढे में गिर गया।
En: But as soon as Rahul opened the door, he fell into a large puddle of water.

Hi: रमेश और प्रिय ने यह देख कर जोर से हंसना शुरू कर दिया।
En: Seeing this, Ramesh and Priya burst out laughing.

Hi: रमेश ने मुस्कुराते हुए कहा, “राहुल, आज तुम्हारी चालें नहीं चलेंगी।”
En: Ramesh, smiling, said, “Rahul, today your tricks won’t work.”

Hi: शर्मिंदा और गीला राहुल वापस दुकान के अंदर आया।
En: Embarrassed and wet, Rahul walked back into the shop.

Hi: नामदेव भी हंसी रोक नहीं पाया।
En: Even Namdev couldn’t help but laugh.

Hi: प्रिय ने सुझाव दिया, “आज चाय का खर्च राहुल ही उठाएगा।”
En: Priya suggested, “Today Rahul should pay for the tea.”

Hi: राहुल ने झिझकते हुए कहा, “ठीक है, दोस्तों। मेरी गलती थी। आगे से ऐसा नहीं करूंगा।”
En: Hesitating, Rahul said, “Alright, friends. It was my mistake. I won’t do this again.”

Hi: रमेश ने राहुल के कंधे पर हाथ रखते हुए कहा, “चलो, अब दोस्ती में कोई चालाकी नहीं।”
En: Ramesh put his hand on Rahul’s shoulder and said, “Come on, no tricks in friendship anymore.”

Hi: राहुल ने सिर हिला कर हामी भरी।
En: Rahul nodded in agreement.

Hi: तीनों ने हंसते हुए चाय का आनंद लिया।
En: The three cheerfully enjoyed their tea together.

Hi: उस दिन के बाद, राहुल ने चाय के पैसे देने में कभी चालाकी नहीं की।
En: After that day, Rahul never tried to shirk paying for the tea again.

Hi: वह जान गया था कि सच्ची दोस्ती में ईमानदारी और मिलकर खर्च करना ही सही होता है।
En: He had realized that true friendship involves honesty and shared expenses.

Hi: फिर तीनों दोस्त रोज अपनी चाय की दुकान पर जाते और हंसी-खुशी से चाय पीते।
En: From then on, the three friends would visit their tea shop every day and happily enjoy their tea together.

Vocabulary Words:
Hi : En
बूंदा-बांदी : drizzle
चकमा : evade
खुराफाती : mischievous
तेज़ : heavier
फिसलना : slip
गड्ढा : puddle
चालें : tricks
शर्मिंदा : embarrassed
झिझकते : hesitating
जान गया : realized
ईमानदारी : honesty
मिलकर : shared
खर्च : expenses
सुझाव : suggested
जोर से हंसना : burst
रखते : put down
छुप जाना : slip out
बाहर की तरफ देखा : looked outside
चुपचाप : quietly
बढ़ने लगा : headed
दुकान : shop
सोच : thinking
जल्दी से : quickly
होता : involves
सच्ची : true
आनंद लिया : enjoyed
दोस्ती : friendship
रोज : every day
मशहूर : famous